adtv

Wednesday, September 7, 2011

Do Naina Aur Ek Kahani




Khwaabo ko Apne sambhal ke rakhna..
Suna hain log sapne churate hain..

2 comments:

MAHINDRA GORELE said...

हक़ीक़त कहो तो उनको खवाब लगता है
शिकवा करो तो उनको मज़ाक लगता है
कितनी शिद्दत से उन्हे चाहते है हम
और एक वो हे जिन्हे ये सब इतेफ़ाक़ लगता है.

Richaa said...

niceeeeee lines.MG

Post a Comment